25 परसेंट से कम हुई कोरोना की दवाई Corona medicine reduced by less than 25 cents

25 परसेंट से कम हुई कोरोना की दवाई Corona medicine reduced by less than 25 cents

कोरोनावायरस कब को पहनाने के बाद दुनिया भर में इसका इलाज की ट्रीटमेंट की खोज बहुत ज्यादा चल रही है इसके दौरान करो ना वायरस के इलाज के लिए काफी दवाइयों की कीमत बढ़ाई जा चुकी है बढ़ाई भी गई है इसके लिए करो ना नहीं की चपेट में आने से आम आदमी को बहुत मार पड़ रही है

पहली स्वास्थ और दूसरी आर्थिक मारने लोगों को काफी बड़ी मुसीबत में डाल दिया है इसके लिए भारत में पिछले महीने में उतारी कोविड-19 की छवि फूल दवाई की कीमत 25 परसेंट से ज्यादा घटा दी गई है

बताया गया है कि जिस कंपनी ने इस दवाई को कम बाजार में उतारा था उसी की एक टेबलेट की कीमत ₹103 थी इसकी कीमत घटाने के बाद में अवश्य रुपए हो गई है

यह कारण से घटाई गई कोरोना की दवाई की कीमत

ग्लेनमार्क ने बताया है कि कोरोनावायरस का इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा क्यों बिल की कीमत 27% की कमी कर दी गई है इसमें अब लेट में महज ₹75 रखी गई है इस दवा को इस्तेमाल मामूली लक्षण वाले कोविड-19 के मरीज के इलाज में किया जा रहा है कंपनी ने बताया है कि ज्यादा फायदे और बड़े ज्यादा कीमत की उत्पादन करने के बाद में दवा की कीमत में काफी संभव हो गई है जिससे इसकी दवाई में 25 परसेंट का लौट कर दिया गया है इसकी उत्पादन में तैयार की जा रही है यह सब का फायदा भारत में करुणा को मरीजों को दिया जा रहा है

सबसे कम कीमत में दी जा रही है सभी फ्यूल की दवाई

इंडिया बिजनेस आलोक के मालिक ने बताया है कि इंटरनेशनल के रिसर्च में साफ पता लग गया है कि कंपनी ने भारतीय बाजार में रिफ्यूल के नाम से यह दवाई उतारी है कोरोनावायरस की यह सबसे कम कीमत में दी गई है इसकी कीमत दूसरे देशों में काफी ज्यादा दी जा रही है इसकी कीमत में कमी के बाद भी हैं हमें उम्मीद है कि भारत में फेविकोल कोविड-19 के हार मरीज के लिए आसानी से उपलब्ध कराई जा सकती है कंपनी ने एक पोस्ट के सर्विस इंडस्ट्री के जरिए फल के कोविड-19 मरीजों का असर सुरक्षा का ध्यान किया गया है इसके लिए 1000 मरीजों का अध्ययन किया गया है इसके इलाज के दौरान दवाई से मरीजों को ठीक किया गया है

तीसरे चरण में भी फेब्रीफ्यूज का ट्रायल हुआ पूरा

हमारे अध्ययन के दौरान कोरोनावायरस 19 केवी फ्यूल को बड़े पैमाने पर इस्तेमाल में किया जा रहा है डॉक्टर ने काफी मदद करने में भी काफी सहायक है ग्लेनमार्क ने 2 जून 2020 को बताया था कि यह भारतीय दवा फ्यूल और मार्केट की अनुमति मिल गई है इस को मार्केट में लॉन्च कर दिया गया है काफी अच्छी तरीके से इसके बाद उसने कोविड-19 के पैसों का इस्तेमाल में की गई थी उसके बाद में इसका उत्पादन शुरू कर दिया है इससे काफी मरीज ठीक भी हुए हैं और अच्छे से इस्तेमाल चल रहा है ग्लेनमार्क ने भारत में कोरोना के रोगियों की फ्यूल तीसरे चरण का क्लीनिक पूरा कर लिया है इसके लिए इसके नतीजे काफी सार्वजनिक भी कर दिए जाएंगे और इसका उपयोग काफी अच्छे से किया जा रहा है और यह बहुत ही अच्छी दवा है तो यह पूरे भारत में फैलाई जा रही है इसका इलाज भी काफी जल्दी किया जा रहा है और यह काम में सहायक बन गई है इसकी पूर्ति पूरे भारत देश में की जा रही है जिससे लोगों को सस्ती मात्रा में इसको प्रदान की जा रही है

 

Related News

Comment (0)

Comment as: